User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 

अलीगढ़:मदर टैरेसा वीमेंस पीजी काॅलेज के शिक्षक-शिक्षा संकाय में “ शिक्षण में शिक्षक और शिक्षार्थी की भूमिका ” विषय पर अतिथि व्याख्यान का शुभारम्भ डाॅ भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय के पूर्व डीन डाॅ गिर्राज किशोर व प्राचार्या डाॅ स्वर्णलता याज्ञनिक ने दीप प्रज्जवलित कर किया।

प्राचार्या डाॅ स्वर्णलता याज्ञनिक ने मुख्य वक्ता डाॅ गिर्राज किशोर का परिचय दिया। मुख्य वक्ता डाॅ गिर्राज किशोर ने छात्राओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि “ जिज्ञासा, शिक्षण की वह धुरी है जिसके चारों ओर शिक्षक और शिक्षार्थी शिक्षा के प्रति अग्रसरित रहतेे हैं। बच्चे को प्रश्न करने का जन्मसिद्ध अधिकार है, तो शिक्षक का जबाब देना, उसका जन्मसिद्ध कर्तव्य है। ”  छात्रा नयन चैधरी, गीता रानी, अनिता, स्नेहलता ने शिक्षा और्र िशक्षक से जुड़ी अपनी जिज्ञासाओं को सामने रखा। मुख्य वक्ता ने विस्तार से उनके सवालों के जबाब देकर जिज्ञासाओं को शांत किया। इस दौरान बीएड प्रभारी विवेक सारस्वत, नीरज सिंह, सीमा शर्मा, डाॅ आराधना मिश्रा, डाॅ अनंता शांडिल्य, मीनाक्षी सारस्वत, प्रो रचना महलवार, अर्चना, डाॅ प्रवीना, चमन शर्मा ने भी विचार व्यक्त किए।