User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 

अलीगढ़:इंस्टीट्यूट आॅफ इन्फोरमेशन मैनेजमेंट एण्ड टैक्नोलाॅजी, अलीगढ़ के शिक्षक-शिक्षा संकाय में “ आज र्का िशक्षक कैसा हो ” विषय पर सेमिनार आयोजित किया गया, जिसका शुभारम्भ डाॅ भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय के पूर्व डीन डाॅ गिर्राज किशोर,

विभागाध्यक्षा डाॅ अंजू सक्सैना, बीटीसी प्राचार्या डाॅ अजीता सिंह ने दीप प्रज्जवलित कर किया। विभागाध्यक्षा डाॅ अंजू सक्सैना ने मुख्य वक्ता डाॅ गिर्राज किशोर का परिचय दिया। सेमिनार के मुख्य वक्ता डाॅ गिर्राज किशोर ने छात्राओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि “ जिस प्रकार से जीवन की पहली पाठशाला मां बच्चे को चलना, बोलना सिखाती है, उसी प्रकार शिक्षक भी अभिभावक की भूमिका अदा करते हुए बच्चों को आगे की जीवन संघर्ष यात्रा में ईमानदारी, कर्तव्यनिष्ठता से एक अच्छा नागरिक बनना सिखाता है। ” स्वेता, नरेश, दीक्षा, विनोद, तान्या, प्रीती, संजय, आस्था, भावना, योगेश्वर ने शिक्षा और्र िशक्षक से जुड़ी अपनी जिज्ञासाओं को वक्ता के समक्ष रखा । डाॅ एफ.एस. उस्मानी ने धन्यवाद ज्ञापित किया। मुख्य वक्ता ने विस्तार से उनके सवालों के जबाब देकर जिज्ञासाओं को शांत किया। इस दौरान डाॅ सुनील चैहान, डाॅ एस.केे. गुप्ता, प्रो आकांक्षा, डाॅ गीता शर्मा, प्रो सुप्राची शर्मा, प्रो सुमनलता गौतम, प्रो दीपशिखा, प्रो मधु चाहर, प्रो स्वाती, प्रो शिखा, चमन शर्मा ने भी विचार व्यक्त किए।