Aligarh:एक कमिश्नर की क्या प्राथमिकता होती है, सही निर्णय लेने में राजनैतिक हस्तक्षेप को किस तरह लेते हैं, इन सवालों पर अलीगढ के नवायुक्त कमिश्नर अजय दीप सिंह ने बेबाकी से जवाब दिए।

आज के दौर में, और शायद पहले भी, पत्रकारिता और राजनीति एक दूसरे के साथ समानांतर चलते प्रतीत होते हैं। हालांकि, पत्रकारिता का क्षेत्र

अस्सी के दशक में होश संभालने वाली पीढ़ी के लिए उन्हें  स्वीकार करना सचमुच मुश्किल था। जिसका नाम था विनोद खन्ना।

इसे जनसाधारण की बदनसीबी कहें या निराशावाद कि खबरों की आंधी में उड़ने वाले सूचनाओं के जो तिनके दूर से उन्हें रसगुल्ले जैसे प्रतीत होते हैं, वहीं नजदीक आने पर गुलगुले सा बेस्वाद हो जाते हैं।

सड़कों पर रहने वाले लावारिस नन्‍हे बच्‍चों के लिए अब प्रसन्‍न होने का समय है। आमतौर पर ‘स्‍ट्रीट चिल्‍ड्रन (लावारिस बच्‍चे)’ कहे जाने वाले 20 लाख से अधिक भारतीय बच्‍चे सुरक्षित

इन्हें भी पढ़ें

loading...