भोपाल। इन्दिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू), भोपाल में समाजकार्य विषय से जुडे परामर्शदाताओं के लिए दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया ।

जिसमें इग्नू द्वारा संचालित समाज कार्य में एम.ए. एवं बी.ए. के प्रयोगिक कार्य को संपादित करने वाले फील्ड सुपरवाइजर ने भाग लिया। यहां भोपाल, रांची, कोरापुट एवं नागपुर के 33 परामर्शदाताओं ने भाग लिया।
इग्नू के समाजकार्य विषय के स्नातक एवं परास्नातक स्तर पर प्रायोगिक घटकों को बडी सतर्कता से तैयार किया गया हैं। जिससे विद्यार्थियों को व्यावहारिक प्रशिक्षण मिल सकें एवं उनकी रोजगारपरकता में बढोतरी हो सकें। कार्यक्रम में प्रशिक्षण देने के के लिए इग्नू समाजकार्य विद्यापीठ नई दिल्ली से डाॅ सायन्तनी एवं डाॅ सौम्या भोपाल आयीं। अंशुमन उपाध्याय सहायक क्षेत्रीय निदेशक ने कार्यशाला की रुप रेखा के बारे मे चर्चा की। डाॅ अमित चतुर्वेदी क्षेत्रीय निदेशक ने मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा के विभिन्न आयामों पर विस्तार से चर्चा की। इग्नू के शैक्षणिक  विद्याओ पर बोलते हुए डाॅ चतुर्वेदी ने प्रयोगिक पाठ्यक्रमों तथा क्षेत्र अध्ययन निर्देशित करने में परामर्शदाताओं की भूमिका प्रकाश डाला।
डाॅ सौम्या एवं डाॅ सायन्तनी ने अपने सत्रों मे समाजकार्य प्रयोग धटकों कि आकादमीक आवश्यकतओं पर चर्चा कि तथा परामर्शदाताओ को अनेक अनुभवों एवं चुनौतियां के बारे मे बताया।
डाॅ सुभाष रंजन नायक सहायक क्षेत्रीय निदेशक  तथा चन्द्र प्रकाश मुर्सेनिया , अनुभाग अधिकारी क्षेत्र कार्य निर्देशन मे सुपरवाइजर द्वारा वांचित कार्यों तथा प्रयोगिक वर्कबुक का मुल्याकंन करने हेतु अनेक दिशा- निर्देश दिये गए जिससे विद्यार्थी को इन धटको को पूर्ण करने मे सुगमता रहें।

इन्हें भी पढ़ें

loading...